क्यों महादेव जिन्दा निगल गए थे दैत्य गुरु शुक्राचार्य को और कैसे पड़ा इनका नाम शुक्र

0
4912

क्यों पड़ा दैत्य गुरु का नाम शुक्राचार्य

क्या आप जानते है कि गुरु शुक्राचार्य का नाम शुक्र क्यों पड़ा और तो और इन्हें भगवान शिव ने जिन्दा क्यों निगल लिया था अगर नहीं जानते तो कोई बात नहीं आज हम आपको इस तथ्य से भी भली-भांति अवगत कराएँगे | शिवपुराण में इस रोचक तथ्य का अदभुद वर्णन किया गया है |

हम सब जानते है कि भगवान शिव बहुत ही दयालु है जो अपने भक्तों पर शीघ्र ही प्रसन्न हो जाते है किन्तु हम सब इस बात से भी अच्छी तरह परिचित है कि अगर कोई भी व्यक्ति अधर्म के मार्ग पर चलता है तो फिर उसे महादेव की क्रोधाग्नि का भोगी भी बनना पड़ता है | आज की इस कहानी में आपको महादेव के इन दोनों रूपों का ज्ञान प्राप्त होगा जिसमे पहले तो महादेव शुक्राचार्य को क्रोध में ज़िंदा निगल जाते है तत्पश्चात जब दैत्य गुरु द्वारा महादेव की स्तुति एवं आराधना की जाती है तो भोले बाबा शीघ्र ही प्रसन्न हो कर उन्हें न केवल मुक्त कर देते है बल्कि वरदान भी देते है |

नीचे दिए हुए हुए वीडियो को पूरा देखें और इस रोचक कहानी का आनदं लें |

 

Facebook Comments