Ahoi Ashtami – संतान की मंगल कामना हेतु करें अहोई अष्टमी का व्रत

0
407

अहोई अष्टमी

ahoi astami vrat kathaअहोई अष्टमी का व्रत कार्तिक मास कृष्ण-पक्ष की अष्टमी के दिन, करवा चौथ के चार दिन बाद और दीवाली पूजा से आठ दिन पहले पड़ता है । करवा चौथ के समान ही अहोई अष्टमी भी उत्तर भारत में अधिक प्रसिद्ध है । उत्तर भारत के विभिन्न अंचलों में अहोईमाता का स्वरूप वहां की स्थानीय परंपरा के अनुसार मनाया जाता है | क्योंकि यह व्रत अष्टमी तिथि, जो कि माह का आठवाँ दिन होता है, के दौरान किया जाता है, इसीलिए इसे अष्टमी और कईं-कईं स्थानों पर अहोई आठें के नाम से भी जाना जाता है | अहोई माता का व्रत करवा चौथ के ठीक चार दिन बाद किया जाता है और करवा चौथ के समान ही अहोई अष्टमी का दिन भी कठोर उपवास का दिन होता है | माताएँ पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं अर्थात जल तक ग्रहण नहीं करती हैं | इस व्रत में भी करवे का पूजन किया जाता है | इस दिन महिलाएँ दिन भर उपवास रखती हैं और शाम को तारे दिखाई देने के समय अहोई का पूजन कर, तारों को करवा से अर्घ्य देकर अपना व्रत खोलती हैं |

यह व्रत उन महिलाओं के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है जो पुत्रवती हैं | यह व्रत संतान की मंगल कामना के लिए किया जाता है | माताएँ इस व्रत को अपने बच्चों की सलामती के लिए रखती हैं | लेकिन जिन माताओं को संतान की प्राप्ति नहीं होती वो भी इस व्रत को कर माँ अहोई से संतान की मनोकामना करती हैं | इस साल अहोई अष्टमी-व्रत वर्ष 2017  में 12 अक्टूबर,  गुरुवार के दिन है |

इस अहोई को किसी मोटे वस्त्र पर काढ़कर पूजा के समय उसे दीवार पर टांग दिया जाता है या यह गेरु आदि से दीवार पर बनाई जाती है | अहोई के चित्रांकन में अधिकतर आठ कोष्ठक की एक पुतली बनाई जाती है और उसी के पास साही तथा उसके बच्चों की आकृतियाँ बनायी जाती है (हालाँकि आजकल बाजारों में यह चित्र मिल जाता है) । महिलाएँ यह व्रत अपने पुत्रों की लम्बी उम्र व उनके सुखमय जीवन की मंगल कामना के लिए करती हैं | चूँकि यह व्रत कार्तिक माह की अष्टमी को कृष्ण-पक्ष में रखा जाता है, इसलिए यह अहोई अष्टमी के नाम से जाना जाता है । वैसे अहोई का अर्थ एक प्रकार से “अनहोनी को होनी बनाना” भी होता है  | इस सन्दर्भ में, अहोई अष्टमी के व्रत से जुड़ी, एक बड़ी ही सुन्दर व्रत-कथा है | तो आइये पहले यह कथा पड़ते हैं…

अहोई अष्टमी-व्रत कथा एवं पूजन विधि जानने के लिए नीचे नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें 

Facebook Comments